Computer Gk

Basics of Computers – Introduction

Basics of Computers - Introduction
Written by sarkarihope

Basics of Computers – Introduction

Computer : is an electronic device that operates (works) under the control of programs stored in its own memory unit. Basics of Computers – Introduction  A computer is an electronic machine that processes raw data to give information as output.
An electronic device that accepts data as input, and transforms it under the influence of a set of special instructions called Programs, to produce the desired output (referred to as Information).
Explanations;
A computer is described as an electronic device because; it is made up of electronic components and uses electric energy (such as electricity) to operate.

कंप्यूटर क्या है ?

(What is computer)

अक्सर लोग सोचते हैं कि कंप्यूटर एक सर्वशक्तिमान सुपरमैन की तरह है परंतु लेकिन ऐसा है नहीं यह एक स्वचालित इलेक्ट्रॉनिक मशीन है। जो तीव्र गति से कार्य करता है और कोई गलती नहीं करता है इसकी क्षमता सीमित है यह अंग्रेजी शब्द कंप्यूट से बना है जिसका अर्थ है गणना करना इसे हिंदी में संगणक कहते हैं। इसका उपयोग बहुत सारी सूचनाओं को प्रोसेस और इकट्ठा करने में किया जाता है। कंप्यूटर एक यंत्र हैं जो डाटा ग्रहण करता है। व इसे सॉफ्टवेयर के अनुसार किसी परिणाम के लिए प्रोसेस करता है। कंप्यूटर को कृत्रिम बुद्धि की संज्ञा दी गई है। इसकी स्मरण शक्ति मनुष्य की तुलना में उच्च होती है

 

कंप्यूटर संबंधी प्रारंभिक शब्द-

(Elementary words relating to computer)

  1. डेटा (Data)-  यह अवस्थित आंकड़ा है। जो की प्रोसेस से पहले की अवस्था है जिसे दो भागों में बांटा गया है।

(a) संख्यात्मक डाटा(Numerical data=)- इस प्रकार के डाटा में 0 से 9 तक के अंको का प्रयोग होता है कर्मचारियों का वेतन, परीक्षा का परिणाम, रोल नंबर, जनगणना, अंकगणितीय संख्या इत्यादि।

(b) अल्फान्यूमैरिक डाटा(Alphanumeric data)- इस तरह के डाटा में अंकों, अक्षरों, तथा चिन्हों का प्रयोग किया जाता है जैसे -पता इत्यादि

  1. सूचना (Information)- यह अवस्थित डाटा को प्रोसेस करने के बाद प्राप्त डाटा है जो व्यवस्थित होता है।

 

कंप्यूटर की विशेषताएं-

(Characteristics of computer)

  1. यह तीव्र गति से कार्य करता है और समय की बचत होती है।
  2. यह त्रुटि रहित कार्य करता है।
  3. यह स्थाई तथा विशाल भंडारण की सुविधा देता है
  4. यह पूर्व निर्धारित निर्देशों के अनुसार तीव्र निर्णय लेने में सक्षम है।

 

कंप्यूटर के उपयोग-

(Uses of computer)

1.शिक्षा (education) क्षेत्र में।

  1. विज्ञानिक अनुसंधान (scientific research) में
  2. रेलवे तथा वायु यान आरक्षण (Railway and Airline reservation) में
  3. बैंक (Bank) में
  4. चिकित्सा विज्ञान (medical science) में
  5. रक्षा (Defence) के क्षेत्र में
  6. प्रकाशन (Publication) में
  7. व्यापार (Business) में
  8. संचार (Communication) में
  9. प्रशासन (Administration) में
  10. मनोरंजन (Entertainment) मे

 

कंप्यूटर के कार्य-

(Functions of computer)

  1. डाटा संकलन (Data collection)
  2. डाटा संचयन (Data storage)
  3. डाटा संसाधन (Data processing)
  4. डाटा निर्गमन (Data output)

 

डाटा प्रोसेसिंग और इलेक्ट्रॉनिक डाटा प्रोसेसिंग-

(Data processing & Electronic data processing)

कंप्यूटर के निर्माण से पहले लक्ष्य तक पहुंचने के लिए डाटा का संकलन सचिन संसाधन और निर्गमन हस्त चलित विधि द्वारा होता था। इसे डाटा प्रोसेसिंग कहते हैं।

जैसे-जैसे टेक्नोलॉजी का विकास हुआ इन सभी कार्यों के लिए कंप्यूटर का उपयोग होने लगा। इलेक्ट्रॉनिक डाटा प्रोसेसिंग कहते हैं। डाटा प्रोसेसिंग का मुख्य लक्ष्य अव्यवस्थित डाटा (Raw data) से व्यवस्थित डाटा प्राप्त करना इसका उपयोग निर्णय लेने के लिए होता है

 

[Input]→[process]→[output]

↑                               ↑

[Incoming data]        ↑ [outgoing information]

Basics of Computers – Introduction

कंप्यूटर सिस्टम-

(Computer system)

यह उपकरणों का समूह है जो एक साथ डाटा प्रोसेसिंग करते हैं कंप्यूटर सिस्टम में अनेक की इकाई होती है जो इलेक्ट्रॉनिक डाटा प्रोसेसिंग मैं होता है

  1. इनपुट यूनिट (input unit)- वैसी इकाई जो यूजर से डाटा प्राप्त कर सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट को इलेक्ट्रॉनिक प्लस के रूप में प्रवाहित करता है जैसे कि ऑटोमेटिक इलेक्ट्रॉनिक मशीन मैं जब हम निकासी तो हमें पिन नंबर डालना होता है। इसके लिए इनपुट यूनिट के रूप में कीपैड का उपयोग किया जाता है।
  2. सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (Central processing unit)- इसे प्रोसेसर भी कहते हैं यह एक इलेक्ट्रॉनिक माइक्रो चीप है जो डाटा को इंफॉर्मेशन में बदलते हुए प्रोसेस करता है। इसे कंप्यूटर का ब्रेन का जाता है। यह कंप्यूटर के सभी कार्यों को नियंत्रित करता है। यह इनपुट को आउटपुट में

रूपांतरित करता है यह इनपुट यूनिट तथा आउटपुट यूनिट से मिलकर पूरा कंप्यूटर सिस्टम बनाता है इसके अर्ग- लिखित भाग होते हैं-

 

सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट

अर्थमैटिक लॉजिक यूनिट

इनपुट यूनिट→          कंट्रोल यूनिट   → आउटपुट युनिट

मैने मेमोरी

 

(अ) अर्थमैटिक लॉजिक यूनिट(arithmetic logic unit,ALU)

इसका उपयोग अंक गणितीय तथा तार्किक गणना में होता है अंक गणितीय गणना के अंतर्गत जोड़ घटाव गुणा और भाग इत्यादि तथा तार की गणना के अंतर्गत तुलनात्मक गणना जैसे हां या ना इत्यादि आते हैं

 

(ब) कंट्रोल यूनिट(Control unit)

यह कंप्यूटर के सारे कार्यों को नियंत्रित करता है तथा कंप्यूटर के सारे भागों जैसे इनपुट आउटपुट डिवाइस प्रोसेसर इत्यादि के सारे गतिविधियों के बीच तालमेल बैठता है

 

(स) मेमोरी यूनिट(Memory unit)

यह डाटा तथा निर्देशों के संग्रह करने में प्रयुक्त होता है इसे मुख्यतः दो वर्गों प्राइमरी तथा सेकेंडरी मेमोरी में विभाजित करते हैं जब कंप्यूटर कार्यशील रहता है अर्थात वर्तमान में उपयोग होने डाटा तथा निर्देश का संग्रह प्राइमरी मेमोरी में होता है सेकेंडरी मेमोरी का उपयोग बाद में उपयोग होने वाले डाटा तथा निर्देशों को संगठित करने में होता है

 

  1. आउटपुट यूनिट (Output unit) ?

वैसी काई जो सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट से डाटा लेकर उसे यूजर को समझने योग्य बनाता है जैसा कि जब हम सुपरमार्केट में बिल अदा करते हैं तो हमें रसीद प्राप्त होता है जो एक आउटपुट का रूप है यह आउटपुट उपकरण (Output device) प्रिंटर से प्राप्त होता है

Join Teligram :- Click Here

Sarkari Hope Home Page :- Click Here

About the author

sarkarihope

Leave a Comment